NIROG JIVAN KA RAJMARG
Price: 15/-



Product Detail

Author Pandit Shriram Sharma Aacharya
Descriptoin Include following books in this set<br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=93">मांसाहार कितना उपयोगी, मनोशारीरिक एवं वैज्ञानिक विश्लेषण</a><br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=134">श्वास-प्रश्वास-विज्ञान </a><br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=140">रोग - औषधि आहार- विहार एवं उपवास</a><br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=131">दीर्घ जीवन की प्राप्ति </a><br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=89">निरोगी जीवन का राजमार्ग </a><br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=139">स्वस्थ रहने के सरल उपाय</a><br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=138">खाते समय इन बातों का ध्यान रखें </a><br> * <a href="http://www.awgpstore.com/gallery/product/init?id=132">स्वस्थ और सुंदर बनने की विद्या </a>
Dimensions 181mmX119mmX3mm
Edition 2014
Language Hindi
PageLength 48
Preface प्रकृति के विशाल प्रांगण में नाना जीव-जंतु, जलचर, थलचर और नभचर हैं । प्रत्येक का शरीर जटिलताओं से परिपूर्ण है, उसमें अपनी-अपनी विशेषताएँ और योग्यताएँ हैं, जिनके बल पर वे पुष्पित एव फलित होते हैं, यौवन और बुढ़ापा पाते हैं, जीवन का पूर्ण सुख प्राप्त करते हैं । पृथ्वी पर रहने वाले पशुओं का अध्ययन कीजिए । गाय, भैंस, बकरी, भेड़, घोडा, कुत्ता, बिल्ली, ऊँट इत्यादि जानवर अधिकतर प्रकृति के साहचर्य में रहते है, उनका भोजन सरल और स्वाभाविक रहता है, खानपान तथा विहार में संयम रहता है । घास या पेड- पौधों की हरी, ताजी पत्तियाँ या फल इत्यादि उनकी सुधा निवारण करते हैं । सरिताओं और तालाबों के जल से वे अपनी तृषा का निवारण करते हैं, ऋतुकाल में विहार करते हैं । प्रकृति स्वयं उन्हें काल और ऋतु के अनुसार कुछ गुप्त आदेश दिया करती है, उनकी स्वयं की वृत्तियाँ स्वयं उन्हें आरोग्य की ओर अग्रसर करती रहती हैं । उन्हें ठीक मार्ग पर रखने वाली प्रकृति माता ही है । यदि कभी किसी कारण से वे अस्वस्थ हो भी जाय तो प्रकृति स्वयं अपने आप उनका उपचार भी करने लगती है । कभी पेट के विश्राम द्वारा, कभी धूप, मालिश, रगड़, मिट्टी के प्रयोग, उपवास द्वारा, कभी ब्रह्मचर्य द्वारा, किसी न किसी प्रकार जीव- जंतु स्वयं ही स्वास्थ्य की ओर जाया करते हैं । पक्षियों को देखिये । ससांर में असंख्य पक्षी हैं ।
Publication Yug Nirman Yogana, Mathura
Publisher Yug Nirman Yogana, Mathura
Size normal
TOC 1. प्रकृति हमारी भूलें सुधारती है 2. प्रकृति और दीर्घजीवन- 3. रोग से डरने की आवश्यकता नहीं 4. चिकित्सा के नाम पर आपको ठगा जाता है- 5. रोगों तथा अस्वस्थता को निमंत्रण 6. आत्महत्या मत किजीए 7. हास्योपचार सर्वोत्तम है.



Related Products


ADHYATM KYA THA KYA HO GAYA ?
Price: 15

ADRASYA JAGAT KA PARYAVEKSHAN
Price: 16

BHARTIYA SANSKRITI JIVAN DARSHAN
Price: 33

CHHAPAN BHOG
Price: 40

DAVI SHAKTI KE ANUDAN VARDAN
Price: 15

DEV SANSKRITI KA MERUDAND VANPRASTH
Price: 9

DHARM KE 10 LAKSHAN PANCH SHEEL
Price: 12

DHARM TANTRA KI GARIMA AUR KSHAMTA
Price: 12

GAYATRI MAHAVIGYAN -3
Price: 65

GYAN KI MANOVAIGYANIK EVAM SAMAJ SASHTRIYA PADDHATI
Price: 10

ISHWAR SE SAZHEDARI NAFE KA SAUDA
Price: 12

KUCHH DHARMIK PRASHNO KE UCHIT SAMADHAN
Price: 10

KYA DHARM? KYA ADHARM?
Price: 15

MAHILAO KI GAYATRI UPASANA
Price: 9

MANDIR JAN JAGRAN KE KENDRA BANE
Price: 7

PRABUDDHA VARG DHARMTANTRA SAMBHALE
Price: 6

SAMSTA VISHWA KE AJASRA ANUDAN
Price: 90

TEERTH YATRA KYA, KYON, KAISE?
Price: 5

VIVEK KI KASAUTI
Price: 5