जीवन साधना के सोपान्

Author: Pt. shriram sharma

Web ID: 609

`7 Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

अपने जीवन को सार्थक बनाने की दृष्टि से भी और विश्वहित साधना का पुण्य-परमार्थ करने की दृष्टि से भी हमें सबसे पहले यह प्रयत्न करना चाहिए कि अपना व्यक्तित्व निर्दोष, निर्मल एवं निष्पाप हो । दोष, पाप और मल ही हमारी प्रगति में सबसे बड़े बाधक हैं । उन्हें जितना ही हटाया या मिटाया जावेगा, उतनी ही अन्तर्ज्योति प्रदीप्त होती चलेगी और उसके प्रकाश में जीवन का प्रत्येक वस्तु प्रकाशवान् बनता चलेगा । इस प्रकाश में भौतिक एवं आत्मिक प्रगति की सभी समस्याएँ अपने आप ही सुलझती चलेंगी ।

प्रस्तुत संग्रह में जीवन साधना के सोपान विषय पर आधारित प्रेरक सद्वाक्यों का संकलन परम पूज्य गुरुदेव के साहित्य में से किया गया है । इस आदर्श वाक्यों का उपयोग गाँव-शहर के सभी गली, मुहल्लों, घरों, चौराहों, पार्किंग स्थलों, शक्तिपीठों, प्रज्ञामण्डलों, महिला मण्डलों, सार्वजनिक स्थानों, नारी केन्द्रों अथवा उन-उपयुक्त स्थानों में किया जाना चाहिए जहाँ से जनसामान्य प्रेरणाप्रद विचारों से शिक्षा ग्रहण करें ।

Author Pt. shriram sharma
Publication yug nirman yojana press
Publisher Yug Nirman Yojana Vistara Trust
Page Length 56
Dimensions 11 cm x 14 cm
  • 06:20:PM
  • 26 May 2020




Write Your Review



Relative Products