परिष्कृत अध्यात्म हमारे जीवन में उतरे

Author: Pt. shriram sharma

Web ID: 601

`5
`7
Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

देवियो, भाइयो! मध्यकालीन परंपरा में भौतिक आधार पर भगवान को प्राप्त करने की कोशिश की जाने लगी और भगवान को भौतिक बना दिया गया । भगवान को भौतिक बनाने से क्या मतलब है ? भौतिक से मतलब यह है कि एक इनसान एक आदमी जैसा होता है, भगवान का स्वरूप भी एक आदमी जैसा बना दिया गया । एक आदमी जैसे मिट्टी, पानी, हवा का बना हुआ होता है, लगभग वही स्वरूप भगवान का बना दिया गया । और भगवान की इच्छाएँ ? इच्छाएँ वही बना दी गईं, जो कि एक आदमी की होती हैं । आदमी खाना माँगता है और भगवान प्रसाद माँगता है । लाइए सवा रुपये का प्रसाद, हनुमान जी को लड्डू खिलाइए । हनुमान जी का पेट भर दीजिए और काम हो जाएगा । भगवान जी को कपड़ा पहनाइए । क्यों ? आपको कपड़े पहनने चाहिए न, इसलिए भगवान जी को भी कपड़े पहनाइए । गायत्री माता पर साड़ी चढाइए । और क्या-क्या दें ? जो कुछ भी, हमको खुशामद की जरूरत हैं । आप हमारी निंदा करेंगे तो हम आपको गालियाँ सुनाएँगे । आपको हमसे कुछ काम निकालना है तो आप हमारी चापलूसी कीजिए खुशामद कीजिए पंखा झलिए हाथ जोडिए पाँव छूइए और पैर धोइए । हम व्यक्ति हैं, मनुष्य हैं इसलिए हमारे लिए भेंट लेकर के आइए । पान खिलाइए सुपारी खिलाइए इलायची दीजिए पैसा दीजिए । कुछ दीजिए हमको तो हम आपसे प्रसन्न हो सकते हैं ।

Table of content

• मध्यकाल की विकृति
• साकार और निराकार भगवान
• हमें बनना क्या है ?
• शंकर जी से जुडी़ वृत्तियाँ
• आज के सच्चे भगवान
• हमारी आध्यात्मिक धरोहर
• ओढ़ी हुई शानदार गरीबी
• उपासना का मर्म

Author Pt. shriram sharma
Publication Yug nirman yojana press
Publisher Yug Nirman Yojana Vistara Trust
Page Length 40
Dimensions 12 cm x 18 cm
  • 11:00:PM
  • 24 Jan 2020




Write Your Review



Relative Products