परिवार और उसका निर्माण

Author: pt shriram sharma acharya

Web ID: 422

`16 Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

जिस प्रकार हाथ-पाँव, सिर, धड़ आदि से मिलकर एक पूरा शरीर बनता है, उसी प्रकार परिवार के विभिन्न सदस्यों के सम्मिलित स्वरूप से ही मानव-जीवन का समग्र ढाँचा खड़ा होता है । परस्पर मिल-जुल कर रहने और एक दूसरे की सहायता करने की प्रवृत्तियों के आधार पर ही मानव-जीवन की समस्त प्रगतियाँ संभव होती हैं और इन प्रवृत्तियों के अभ्यास का अवसर पारिवारिक-जीवन में ही सहज उपलब्ध हो जाता है ।

एकाकी मनुष्य सर्वथा अपूर्ण है । इस प्रकार जीवन-यापन करने वाले व्यक्ति की क्षमता और प्रतिभा विकसित होने के स्थान पर कुंठित ही होती है । योग-साधन के लिए कुछ समय एकांत सेवन करना पड़े तो वह एक सामयिक व्यवस्था है, पर मूलत: तो जीवन-विकास और सामूहिक उत्कर्ष के लिए मिल-जुल कर ही रहना पड़ता है ।

परिवार लौकिक सुविधाओं की दृष्टि से ही नहीं, आत्मिक सद्गुणों को अभ्यास में लाने के लिए भी आवश्यक है । ईश्वर ने जितनी समाज-सेवा अनिवार्य रूप से हमें सौंपी हैं वह परिवार ही है । किसी भी व्यक्ति की आध्यात्मिक एवं सामाजिक जिम्मेदारी उसके पारिवारिक कर्तव्यों के साथ मजबूती के साथ बँधी हुई है । परिवार को सुविकसित करने के लिए निरंतर सचेष्ट रहना मानवता की सेवा की दृष्टि से नितांत आवश्यक है ।
प्रस्तुत पुस्तक में परिवार के प्रति मनुष्य के कर्तव्यों की ओर ध्यान आकर्षित किया गया है और बताया गया है कि राष्ट्र-रचना के इस महान कार्य को कितनी पवित्रता, तत्परता और श्रद्धापूर्वक सम्पन्न किया जाना चाहिए । समाज का छोटा स्वरूप परिवार है । छोटे-छोटे परिवारों से मिलकर ही राष्ट्र या विश्व बनता है । समाज या संसार में जैसा भी कुछ हम बनना चाहते है उसका प्रबंध घर से ही हम सब करने लगें तो नवयुग के निर्माण की विश्वव्यापी सुख-शांति की समस्या सहज ही हल हो सकती है ।

Table of content

• पारिवारिक जीवन की समस्याएँ
• गृहस्थ की दुर्दशा
• परिवार निर्माण के सूत्र
• परिवार का निर्माण ही नहीं पालन भी
• पारिवारिक पंचशील सिद्धान्त
• परिवार भी एक शरीर ही है
• परिजनों की सुधार की पूर्ण प्रक्रिया
• उत्तराधिकार में परिवार को पाँच रत्न दीजिए
• परिवार का मूल दाम्पत्य जीवन
• पतिव्रत धर्म की गरिमा
• पत्निव्रत धर्म की आवश्यकता
• क्या संतान न होना दुर्भाग्य है?
• बालकों के निर्माण का आधार
• बालक के निर्माण में माता का हाथ
• उत्तम संतान कैसे प्राप्त हो?


Author pt shriram sharma acharya
Edition 2013
Publication yug nirman yojana press
Publisher Yug Nirman Yojana Vistara Trust
Page Length 88
Dimensions 121X178X5 mm
  • 06:10:PM
  • 17 Sep 2019




Write Your Review



Relative Products