जीवन देवता कि साधना आराधना-2

Author: Pt. Shriram Sharma Aacharya

Web ID: 408

`150 Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

मानव जीवन एक संपदा के रूप में हम सबको मिला है । शारीरिक, मानसिक एवं आत्मिक हर क्षेत्र में ऐसी-ऐसी अद्भुत क्षमताएँ छिपी पड़ी हैं कि सामान्य बुद्धि से उनकी कल्पना भी नहीं की जा सकती । यदि उन्हें विकसित करने की विद्या अपनाई जा सके तथा सदुपयोग की दृष्टि पाई जा सके तो जीवन में लौकिक एवं पारलौकिक संपदाओं एवं विभूतियों के ढेर लग सकते हैं ।

परमपूज्य गुरुदेव लिखते हैं कि मनुष्य को मानवोचित ही नहीं, देवोपम जीवन जी सकने योग्य साधन प्राप्त होते हुए भी, वह पशुतुल्य दीन-हीन जीवन इसलिए जीता है कि वह जीवन को परिपूर्ण, सर्वांगपूर्ण बनाने के मूल तथ्यों पर न तो ध्यान देता है और न उनका अभ्यास करता है । जीवन को सही ढंग से जीने की कला जानना तथा कलात्मक ढंग से जीवन जीना ही जीवन जीने की कला कहलाती है व आध्यात्मिक वास्तविक एवं व्यावहारिक स्वरूप यही है । अपने को श्रेष्ठतम लक्ष्य तक पहुँचाने के लिए सद्गुणों एवं सतवृत्तियों के विकास का जो अभ्यास किया जाता है, उसी को जीवन-साधना कहते हैं । उसी को जीवनरूपी देवता की साधना भी कह सकते हैं ।

जीवन-साधना नकद धर्म है । इसके प्रतिफल को प्राप्त करने के लिए किसी को लंबे समय की प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ती । "इस हाथ दे-उस हाथ ले" का नकद सौदा इस मार्ग पर चलते हुए हर कदम पर फलित होता रहता है । जीवन- साधना यदि तथ्यपूर्ण, तर्कसंगत और विवेकपूर्ण स्तर पर की गई हो तो उसका प्रतिफल दो रूपों में हाथोहाथ मिलता चला जाता है । एक संचित पशु-प्रवृत्तियों से पीछा छूटता है, उनका अभ्यास छूट जाता है एवं दूसरा लाभ यह होता है कि नर-पशु से देवमानव बनने के लिए जो प्रगति करनी चाहिए उसकी व्यवस्था सही रूप से बन पड़ती है । स्वयं को अनुभव होने लगता है कि व्यक्तित्व निरंतर उच्चस्तरीय बन रहा है ।

Table of content

अध्याय -१
जीवन देवता की साधना:नकद धर्म
अध्याय-२
जीवन साधना :प्रयोग और सिद्धियाँ
अध्याय-३
जीवन साधना के स्वर्णिम सूत्र
अध्याय -४
शक्ति -संचय के पथ पर अग्रसर होइये
अध्याय -५
परिष्कृत व्यक्तित्व:साधना की एक सिद्धि एक उपलब्धि
अध्याय ६
जीवन देवता की आराधना करें व्यक्तित्व सम्पन्न बनें
अध्याय-७
आत्मोत्कर्ष का प्रमुख आधार :श्रद्धा
अध्याय -८
ब्रह्मविद्या का रहस्योद्घाटन
अध्याय-९
अमृत ,पारस और कल्पवृक्ष की प्राप्ति
अध्याय-१०
लोक आराधना की आवश्यकता और उसका स्वरुप
अध्याय-११
साधकों -युगशिल्पियों की गलाई -ढलाई

Author Pt. Shriram Sharma Aacharya
Dimensions 20 cm x 27 cm
  • 12:31:AM
  • 24 Nov 2020




Write Your Review



Relative Products