जीवन शरद शतम-41

Author: pt shriram sharma acharya

Web ID: 379

`105
`150
Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

स्वस्थ रहना मनुष्य का अधिकार है, एक स्वाभाविक प्रक्रिया है । इसी आधार पर हमारे ऋषिगणों ने मनुष्य के लिए “जीवेम शरद: शतम्”-व्यक्ति सौ वर्ष तक जिए नीरोग जीवन जीकर सौ वर्षों की आयुष्य का आनंद ले, सूत्र दिया था । सौ वर्ष से भी अधिक जीने वाले, स्वास्थ्य के मौलिक सिद्धांतों को जीवन में उतारने वाले अनेकानेक व्यक्ति कभी वसुधा पर थे एवं इसे एक सामान्य सी बात माना जाता था । स्वस्थवृत्त को जीवन में उतारने वाला सौ वर्ष तक जीकर ही अपना सारा जीवन-व्यापार पूरा कर ही मोक्ष को प्राप्त होगा, यह हमारी संस्कृति का कभी जीवनदर्शन था । किंतु आज यह सब एक विलक्षणता मानी जाती है, जब सुनने में आता है कि किसी ने सौ वर्ष पार कर लिए व अभी भी नीरोग है । परमपूज्य गुरुदेव ने वाड्मय के इस खंड में जहाँ बिना औषधि के कायाकल्प की बात कही है, वहीं जडी़-बूटियों द्वारा स्वास्थ्य-संरक्षण, कल्प के विभिन्न शरीरपरक बार्धक्य कभी न लाने वाले सुगम प्रयोग भी दिए हैं, जो आज भी परीक्षित करने पर कसौटी पर खरे सिद्ध हो सकते हैं ।

रोग क्यों होते हैं, उनका कारण क्या है व कौन-कौन से घटक इसके लिए जिम्मेदार होते हैं ? यहाँ से यह खंड आरंभ होता है । रोगों की उत्पत्ति की जड़ हमारी जीवनशैली का त्रुटिपूर्ण होना है तथा कब्ज से लेकर आहार के असंयम रहन-सहन से लेकर मानसिक तनाव तथा दैवी प्रतिकूलताओं से लेकर बैक्टीरिया-वायरस के कारण होने की व्याख्या के पीछे पूज्यवर का मंतव्य एक ही है कि हमारी जीवनीशक्ति-प्राणशक्ति यदि अक्षुण्ण रहे व जीवनशैली सही रहे तो हमें कभी रोग-शोक सता नहीं सकते । पंचभूतों से बनी इस काया को जिसे अंत में मिट्टी में ही मिल जाना है, क्या हम पंचतत्त्वों-आकाश, वायु जल, मिट्टी, अग्नि के माध्यम से स्वस्थ बना सकते हैं, इसका समग्र विवेचन इस खंड में विस्तार से हुआ है ।

Table of content

अध्याय -१
रोगों का कारण और निवारण
अध्याय-२
बिना औषधि के काया कल्प
अध्याय-३
पंचतत्वों द्वारा सम्पूर्ण रोगों का निवारण
अध्याय-४
प्राकृतिक चिकित्सा
अध्याय-५
कब्ज की सरल चिकित्सा
अध्याय-६
उपवास के चमत्कार
अध्याय-७
जड़ी -बूटियों द्वारा स्वास्थ्य संरक्षण
अध्याय-८
समस्त रोगों की एक औषधि -तुलसी
अध्याय-९
जड़ी-बूटी चिकित्सा -एक संदर्शिका
अध्याय-१०
मसाला वाटिका से घरेलू उपचार
अध्याय-११
आयुर्वेद की गौरव -गरिमा
अध्याय-१२
कल्प चिकित्सा

Author pt shriram sharma acharya
Dimensions 20 cm x 27 cm
  • 05:07:AM
  • 23 Jan 2020




Write Your Review



Relative Products