गायत्री के जगमगाते हीरे

Author: pt Shriram sharma acharya

Web ID: 248

`5
`6
Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

गायत्री-मंत्र के प्रारंभ में ऊँ लगाया जाता है । ऊँ परमात्मा का प्रधान नाम है । ईश्वर को अनेक नामों से पुकारा जाता है । एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति उस एक ही परमात्मा को ब्रह्मवेत्ता अनेक प्रकार से कहते हैं । विभिन्न भाषाओं और संप्रदायों में उसके अनेक नाम हैं । एक-एक भाषा में ईश्वर के पर्यायवाची अनेक नाम हैं फिर भी वह एक ही है । इन नामों में ऊँ को प्रधान इसलिए माना है कि प्रकृति की संचालक सूक्ष्म गतिविधियों को अपने योग-बल से देखने वाले ऋषियों ने समाधि लगाकर देखा है कि प्रकृति के अंतराल में प्रतिक्षण एक ध्वनि उत्पन्न होती है जो ऊँ शब्द से मिलती-जुलती है । सूक्ष्म प्रकृति इस ईश्वरीय नाम का प्रतिक्षण जप और उद्घोष करती है इसलिए अकृत्रिम, दैवी,स्वयं घोषित, ईश्वरीय नाम सर्वश्रेष्ठ कहा गया है । आस्तिकता का अर्थ है-सतोगुणी, दैवी, ईश्वरीय, पारमार्थिक भावनाओं को हृदयंगम करना । नास्तिकता का अर्थ है-तामसी, आसुरी, शैतानी, भोगवादी, स्वार्थपूर्ण वासनाओं में लिप्त रहना । यों तो ईश्वर भले-बुरे दोनों तत्त्वों में है पर जिस ईश्वर की हम पूजा करते हैं, भजते हैं ।

Table of content

• ॐ- ईश्वरीय सत्ता का तत्त्व-ज्ञान

• भू:-सर्वत्र अपना ही प्राण बिखरा पड़ा है

• भुव:-कर्मयोग की शिक्षा

• स्व:-स्थिरता और स्वस्थता का संदेश

• तत्-मृत्यु से मत डरिए

• सवितु:-शक्तिशाली एवं तेजस्वी बनिए

• वरेण्यं-अच्छाई को ही ग्रहण कीजिए

• भर्गो-निष्पाप बनने की प्रेरणा

• देवस्य-देवत्व का अवलंबन कीजिए

• धीमहि-दैवी संपत्तियों का संचय कीजिए

• धियो-विवेक का अनुशीलन

• यो न:-आत्मसंयम और परमार्थ का मार्ग

• प्रचोदयात्-प्रोत्साहन की आवश्यकता


Author pt Shriram sharma acharya
Edition 2011
Publication yug nirman yojana press
Publisher Yug Nirman Yojana Vistara Trust
Page Length 32
Dimensions 12 cm x 18 cm
  • 04:59:PM
  • 9 Aug 2020




Write Your Review



Relative Products