बाल निर्माण की कहानियाँ-6

Author: Dr. Asha Sarsij

Web ID: 192

`11 Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

बच्चों के मन में अध्यात्म एवं जीवन कला के विभिन्न सूत्र कथाओं के माध्यम से सरलता से स्थापित किये जा सकते हैं। इसी अवधि में मस्तिष्क का सर्वाधिक विकास होता है। भला-बुरा जो भी प्रभाव होता है, वे ग्रहण करते व तदनुसार अपना व्यक्तित्व विनिर्मित करते हैं। यह अभिभावकों व परिवार के संपर्क में आने वाले माध्यमों पर निर्भर है कि बालक-मन को वह किस प्रकार गढ़ते हैं। बाल निर्माण की कहानियों के भाग पिछले दिनों युग निर्माण योजना द्वारा प्रकाशित किए गए। प्रसन्नता की बात है कि विदेशी अथवा फूहड़ कॉमिक्स के सामने ये कहानियाँ सुरुचि, श्रेष्ठ ठहरी एवं परिजनों ने इन कथा पुस्तकों की भूरि-भूरि सराहना की। इनके कई संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं। सोचा यह गया कि बालकों के लिए तो साहित्य लिखा गया और पसंद भी किया गया। उठती वय के किशोरों के लिए ऐसे साहित्य का सृजन अभी नहीं हुआ है। प्रस्तुत पुस्तक माला इसी श्रृंखला की अगली कड़ी है। इसमें मूलतः किशोरों की दृष्टि में रखते हुए कथा साहित्य रचा गया है। लेखिका ने बाल मनोविज्ञान का बड़ी गहराई से अध्ययन किया है, वही अध्ययन अनुभव इन कथानकों के रूप में पाठकों के समक्ष प्रस्तुत हैं।

Table of content

1. घास की चोरी और जमाखोरी
2. नन्दू की नौकरी
3. गायों की गोष्ठी
4. माँ और बच्चे
5. सजा
6. बुद्धिमती चुहिया
7. दो भाई
8. न्यायी राजा
9. सपने की सीख
10. मित्रता का अन्त
11. कहानी एक चित्र की
12. पोल खुल गयी
13. ज्योतिषी सियार की करामात

Author Dr. Asha Sarsij
Edition 2014
Publication yug nirman yojana vistar trust
Publisher yug nirman yojana Press, Mathura
Page Length 56
Dimensions 121X181X3 mm
  • 03:49:PM
  • 13 Nov 2019




Write Your Review



Relative Products