भज सेवायाम् ही है भक्ति

Author: Pt. Shriram Sharma Acharya

Web ID: 1107

`5 Add to cart

Availability: In stock

Condition: New

Brand: AWGP Store

Preface

देवियो, भाइयो! ज्ञानयोग और कर्मयोग इन दो योगों के संबंध में कल और परसों आपको हमने बताया कि आपको ज्ञानयोगी और कर्मयोगी होना चाहिए । ज्ञानयोग अर्थात आपको ऐसा आदमी होना चाहिए जिसे दूरदर्शी और विवेकवान कहते हैं । कर्मयोग अर्थात आपको अपने कर्त्तव्यों और फर्जों को पूरा करने वाला होना चाहिए जैसे कि कर्मठ, बहादुर और जिम्मेदार आदमी हुआ करते हैं । ज्ञानयोग और कर्मयोग के बाद में एक और सबसे बड़ा योगाभ्यास रह जाता है जिसका नाम है "भक्तियोग" । चिंतन में यही योग काम करता है । जीवन में इसका समावेश होना चाहिए । वे योग अलग हैं जिनमें किसी तरह के अभ्यास किए जाते हैं ।
Author Pt. Shriram Sharma Acharya
Publication Yug Nirman Trust, Mathura
Page Length 32
Dimensions 9 X 12 cm
  • 11:29:PM
  • 5 Jun 2020




Write Your Review



Relative Products